आखिर जिंदगी से जंग हार गया प्रहलाद, 90 घंटे के रेस्क्यू के बाद बोरवेल से निकाला मासूम का शव

Edited By meena, Updated: 08 Nov, 2020 10:59 AM

after all prahlada lost his battle with life

मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले के सैतपुरा के बारह गांव में बोरवेल में गिरा तीन साल के मासूम प्रहलाद कुशवाहा आखिरकार जिंदगी से जंग हार गया। 90 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आखिरकार मासूम को निकाल लिया गया। 4 नवंबर को बोरवेल में गिरे प्रहलाद में बोरवेल में...

निवाड़ी: मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले के सैतपुरा के बारह गांव में बोरवेल में गिरा तीन साल के मासूम प्रहलाद कुशवाहा आखिरकार जिंदगी से जंग हार गया। 90 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आखिरकार मासूम को निकाल लिया गया। 4 नवंबर को बोरवेल में गिरे प्रहलाद में बोरवेल में गिरने के कुछ घंटे बाद से ही हलचल बंद हो गई थी और इस बात की पूरी आशंका थी कि वह दम तोड़ चुका है। बावजूद इसके एनडीआरएफ और सेना की टीम लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी रही और शनिवार रात अंततः बच्चे को खोज निकालने में सफल रही। प्रहलाद को तत्काल झांसी मेडिकल कॉलेज ले जाने के लिए एंबुलेंस तैयार थी और उसके साथ डॉक्टर भी तैयार थे l

PunjabKesari

जैसे ही प्रहलाद को बाहर निकाला गया, तत्काल एंबुलेंस से उसे अस्पताल ले जाया गया लेकिन वहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। संभवत देश में चले किसी भी बोरवेल में फंसे बच्चे को निकालने के सबसे लंबे ऑपरेशन में आखिर मे असफलता हाथ लगी। शनिवार की दोपहर भी इस बात की व्यापक संभावना थी कि बच्चे तक एनडीआरएफ की टीम पहुंच जाएगी लेकिन तब बताया गया कि बोरेवेल और सुरंग की दिशा का सही पता लगाने में असफलता हाथ लगी है और बच्चे तक पहुंचने में अभी कुछ और वक्त लगेगा।

PunjabKesari

90 घंटे की इस कवायद में पुलिस और प्रशासन की टीम पूरी मशक्कत के साथ जुटी रही लेकिन कहीं ना कहीं प्रशासन की लापरवाही भी सामने आई इसमें एक सुनियोजित प्लान के तहत काम करने की बजाय आवश्यकता पड़ने के अनुसार एनडीआरएफ और सेना की टीमों को बुलाया गया और यदि बचाव दल को पहले से सुनियोजित ढंग से कार्य कराया जाता तो शायद बच्चे की जान बन जाती।
PunjabKesari

बता दें कि पृथ्वीपुर थाना क्षेत्र के शैतपुरा गांव में खेत में बोरवेल के लिए गड्ढा खोदा गया था। गड्ढा खुला पड़ा था, उसे लोहे के बर्तन से ढंका गया था। हरिकिशन का चार साल का बेटा प्रह्लाद कुशवाहा इस गडढे के पास खेल रहा था। खेल-खेल में उसने गड्ढे के ऊपर रखे बर्तन को हटाया और उसमें गिर गया। घटना की सूचना पर निवाड़ी की पुलिस अधीक्षक वाहिनी सिंह मौके पर मौजूद है और उन्होंने बताया कि राहत और बचाव कार्य के लिए सेना को बुलाया जा रहा है।

PunjabKesari
इसके बाद बच्चे को बोरवेल से निकालने के लिए सेना, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, लोकल पुलिस और स्थानीय प्रशासन ने दिन रात एक किया हुआ था। बच्चे को सकुशल निकालने के लिए बोरवेल में ऑक्सीजन पहुंचाई जा रही थी। घटना स्थल पर 6 जेसीबी मशीनों से बोरवेल के आसपास खुदाई की गई ताकि बच्चा ज्यादा गहराई में न गिर सके। लेकिन उसे बचाया न जा सका।
 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!