MP कैडर IAS नियाज खान की मांग- मुस्लिमों की हत्या पर भी बने फिल्म, वो कीड़े नहीं इंसान हैं

Edited By meena, Updated: 19 Mar, 2022 07:20 PM

कश्मीरी पंडितों पर हुए अत्याचार पर आधारित फिल्म द कश्मीर फाइल्स पर सियासत गर्माई हुई है। इसी बीच मध्य प्रदेश कैडर के आईएएस नियाज खान का एक ट्वीट तेजी से वायरल हो रहा है। इसमें उन्होंने मुस्लिमों की हत्या पर भी फिल्म बनाने की मांग की है। उन्होंने कहा...

भोपाल: कश्मीरी पंडितों पर हुए अत्याचार पर आधारित फिल्म द कश्मीर फाइल्स पर सियासत गर्माई हुई है। इसी बीच मध्य प्रदेश कैडर के आईएएस नियाज खान का एक ट्वीट तेजी से वायरल हो रहा है। इसमें उन्होंने मुस्लिमों की हत्या पर भी फिल्म बनाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि वे कीड़े नहीं बल्कि इंसान है। ट्वीट वायरल होते ही बवाल खड़ा हो गया है। हुजूर विधायक रामेश्वर शर्मा ने नसीहत दी है।

भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी नियाज खान ने ट्वीट में लिखा - अलग-अलग मौकों पर मुसलमानों के नरसंहार को दिखाने के लिए एक किताब लिखने की सोच रहा था। ताकि कश्मीर फाइल्स जैसी फिल्म कुछ निर्माता द्वारा बनाई जा सके। ताकि अल्पसंख्यकों के दर्द और पीड़ा को भारतीयों के सामने लाया जा सके। यह फिल्म ब्राह्मणों का दर्द दिखाती है। नियाज खान ने आगे लिखा कि पीड़ित ब्राह्मणों को पूरे सम्मान के साथ कश्मीर में सुरक्षित रहने की अनुमति दी जानी चाहिए।

साथ ही उन्होंने द कश्मीर फाइल्स के डायरेक्टर विवेक अग्निहोत्री का नाम लिए बिना मांग की कि निर्माता को कई राज्यों में बड़ी संख्या में मुसलमानों की हत्याओं को दिखाने के लिए भी एक फिल्म बनानी चाहिए। मुसलमान कीड़े नहीं बल्कि इंसान हैं और देश के नागरिक हैं।

PunjabKesari

रामेश्वर शर्मा का पलटवार
रामेश्वर शर्मा ने नियाज खान के ट्विट को रिट्वीट करते हुए एक के बाद एक कई ट्विट किए। उन्होंने कहा कि- वैसे तो देश में कही दंगे नहीं हो रहेस न हो पाएंगे पर पूर्व में हुए भिवंडी, भागलपुर,मुज़फ़्फ़रनगर, बंगाल, केरल में हिंदू मुस्लिम दंगो में भी हिंदूओ की मौत का आंकड़ा मुस्लिमों की मौत से ज़्यादा निकलेगा। एक बात और नियाज़ खान जी… मुस्लिमों के लिए कीड़ा मकोड़े जैसे शब्दों का इस्तेमाल न करें क्योंकि भारत में सच्चे देशभक्त APJ अब्दुल कलाम साहब, अशफ़ाक़ुल्लाह ख़ां, जैसे भी हुए हैं।
शर्मा ने अगले ट्वीट में लिखा- चलिए 30 साल बाद ही सही पर आपने माना तो कि कश्मीरी पंडितो-हिंदुओं के साथ अनन्य, अत्याचार, बर्बरता हुई। 30 साल बाद आपने माना तो इस्लामिक कट्टरवाद, जिहाद के लिए कैसे हिंदुओं को मिट्टी में मिलाने की सोच का उदाहरण 19 जनवरी 1990 को पेश किया गया। इस्लामिक आतंकवाद को कांग्रेस के खुले समर्थन का प्रमाण है...।

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Lucknow Super Giants

Royal Challengers Bangalore

Match will be start at 25 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!