पुलिस की वर्दी पहनकर देते थे वारदात, 6 आरोपी गिरफ्तार, बड़ी मात्रा में लूट का सामान बरामद

Edited By Devendra Singh, Updated: 20 Jun, 2022 11:38 AM

police arrested six accused for event loot theft

पुलिस ने नकली बंदूक की दम पर लूट और चोरी की घटनाओं को अंजाम देने वाले 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

दंतेवाड़ा (पुष्पेंद्र सिंह): पुलिस (police) ने लूट और चोरी की वारदातों (event of loot and theft) को अंजाम देने वाले 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने जब इस पकड़े गए लोगों से कड़ाई से पूछताछ की तो चौंका देने वाले खुलासे हुए हैं। इन लोगों ने फिल्मी स्टाइल की तरह वारदातों को अंजाम दिया था। पुलिस की वर्दी पहनकर पैसे वाले घरों को टारगेट करते थे। इतना ही नहीं गूगल से एके-47 की तस्वीर निकाल कर हूबाहू लकड़ी बंदूक तैयार की जाती थी। रात को बाइक से निकलते थे और घरों में इन्ही बंदूकों की दम पर लूट और छिनैती जैसी गंभीर वारदातों को अंजाम देते थे।

PunjabKesari

एक ही क्षेत्र के रहने वाले है सभी आरोपी 

पुलिस (police) ने इस बात का खुलासा रविवार को प्रेसवार्ता के दौरान किया है। गिरफ्तार आरोपियों में भूषण मरकाम, लखन नाग, अंनत नाग, विशाल कुंजाम, दीपक सिंह ठाकुर, गौरीशंकर नाग ये सभी आरोपी कुआकोंडा थाना क्षेत्र के है। इनके पास से एक मोबाइल, दो बाइक, 3 केमोफ्लाज टी शर्ट, 4 नकली हथियार और 2600 रुपये भी बरामद किए हैं।

PunjabKesari

वारदात का पैटर्न नक्सलियों जैसा

नकली बंदूकों (fake pistol) की दम पर नक्सली बनकर लूट को अंजाम देने वाला गिरोह हत्थे चढ़ा है। अलग थाना क्षेत्रों में वारदात को अंजाम देने वाले 6 आरोपियों को पुलिस ने लकड़ी की बनी नकली बंदूक को दरयाफ्त की है। पुलिस ने जानकारी देते हुए कहा कि कुआकोंडा थाना क्षेत्र में बीते 24 मई और 8 जून को वर्दीधारी नक्सलियों ने हल्बारास के सचिव और मोखपाल के सरपंच विनोद शोरी के घर में लूटपाट की थी। पीड़ितों ने कुआकोंडा थाना में FIR दर्ज कराई थी। इसके बाद से पुलिस इन आरोपियों को पकडऩे के लिए कार्रवाई कर रही थी।   

PunjabKesari

एएसपी के कंधे पर थी आरोपियों को पकड़ने की जिम्मेदारी

इधर इस घटना की गंभीरता को देखते हुये दंतेवाड़ा एसपी सिद्धार्थ तिवारी ने नक्सल ऑपरेशन (naxal Operation) के एडिशनल एसपी योगेश पटेल और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र जायसवाल के नेतृत्व में एक स्पेशल जांच टीम (special team) बनवाई गई। पुलिस ने जब मामले की बारीकी से पड़ताल की तो  6 लोग पुलिस की गिरफ्त में आए।  घटना का खुलासा करते हुए पुलिस ने जानकारी दी कि ये सभी आरोपी सीरियल लूट की वारदात को लगातार एक ही ट्रिक से अंजाम दे रहे थे. साथ ही इन सभी की उम्र 18 वर्ष से लेकर 26 वर्ष तक है, जिन्होंने गूगल का सहारा लेकर और यूट्यूब वीडियो की मदद से पूरे क्राइम को अंजाम दिया है।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!