उमा भारती का बड़ा बयान, हमने नहीं खुद कांग्रेस के विधायकों ने ही गिराई कमलनाथ सरकार

Edited By meena, Updated: 26 Oct, 2020 07:20 PM

uma bharti s big statement in sagar

मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव से पहले आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है। सत्ता के जाने के बाद कांग्रेस नेता लगातार बीजेपी पर खरीद फरोख्त का आरोप लगाती है लेकिन बीजेपी की फायर ब्रांड नेता उमा भारती ने आज सागर में विपक्ष के सारे आरोपों को खारिज किया...

सागर: मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव से पहले आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है। सत्ता के जाने के बाद कांग्रेस नेता लगातार बीजेपी पर खरीद फरोख्त का आरोप लगाती है लेकिन बीजेपी की फायर ब्रांड नेता उमा भारती ने आज सागर में विपक्ष के सारे आरोपों को खारिज किया है। उनका कहना है कि कमलनाथ सरकार भारतीय जनता पार्टी ने नहीं गिराई बल्कि कांग्रेस के ही विधायकों ने कांग्रेस की सरकार गिराई है। कांग्रेस के विधायकों को दिक्कत हो रही थी कि जो लोगों से वादे किए गए थे वह पूरे नहीं हो रहे थे किसानों से जो वादे किए गए वह पूरे नहीं हुए लोग कांग्रेस के विधायकों और मंत्रियों के सामने खड़े हो रहे थे और कह रहे थे कि वादे पूरे करवाइए ऐसी स्थिति में भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस की सरकार नहीं गिराई बल्कि कांग्रेस के ही विधायकों ने कांग्रेस की सरकार गिराई है हम किसी की सरकार गिराना और आकांक्षाएं हम नहीं रखते।

PunjabKesari

बीजेपी नेता उमा भारती आज मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनाव में सागर की सुरखी विधानसभा में प्रचार करने पहुंची। उन्होंने जनता को संबोधित करते हुए बताया कि भारतीय जनता पार्टी कभी भी किसी भी पार्टी के विधायक को तोड़ने की बात नहीं करती हकीकत तो यह है कि यहां कांग्रेस की सरकार बन गई इस पर कांग्रेस के ही नेताओं को भरोसा नहीं हुआ कि वह(कमलनाथ) मुख्यमंत्री बन गए हैं या उनकी सरकार बन गई है क्योंकि लहर यही थी कि यहां भाजपा की ही सरकार बनेगी और शिवराज जी मुख्यमंत्री बनेंगे लेकिन कोई हल्की-फुल्की चूक हो गई कि वोट हमें ज्यादा मिले और सीटें उनकी ज्यादा हो गई और इसी स्थिति में यहां पर सरकार बन गई।

PunjabKesari

वहीं चुनाव से पहले कमलनाथ ने जनता से वादे ही इतने कर दिए कि क्योंकि उन्हें विश्वास ही नहीं था कि हमें चुनाव जीतना है उन्हें तो लगा की सीटें बढ़ाने के लिए हर बात में हां कर दो इसलिए इतने वादे कर रखे थे जनता से कि जब सरकार बनी और वादे पूरे नहीं हुए तो विधायकों को जनता का सामना करना मुश्किल हो गया। मंत्रियों को जनता का सामना करना मुश्किल हो गया। इसलिए ज्योतिरादित्य को कहना पड़ा कि मुझे सड़क पर आकर संघर्ष करना होगा तब कमलनाथ ने कहा कि ठीक है तो सड़क पर उतर जाओं। इसके बाद तब ज्योतिरादित्य ने फैसला किया कि भारतीय जनता पार्टी में शामिल होंगे। यही दिक्कत कांग्रेस के विधायकों को हुई और उन्होंने कमलनाथ की सरकार गिरा दी।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!